सवाल-

मैं 26 वर्षीय विवाहिता हूं. शादी को 3 साल हो गए हैं पर अभी तक कंसीव नहीं कर पाई हूं. इस के लिए अब मैं सेक्स के दौरान नीचे तकिया भी रखती हूं और पति से कहती हूं कि स्खलित होने के बाद वे देर तक उसी अवस्था में रहें. फिर भी कंसीव नहीं कर पा रही जबकि मेरे पीरियड्स रैग्युलर हैं और हम नियमित रूप से सेक्स भी करते हैं. बताएं मैं क्या करूं?

ये भी पढ़ें- मैंने पिछले दिनों 2-3 बार गर्लफ्रैंड के साथ बिना कंडोम लगाए सेक्स कर लिया, मैं क्या करूं?

जवाब-

सेक्स के दौरान इजैक्युलेशन के समय पुरुष के अंग से काफी तीव्र वेग से स्पर्म निकलते हैं और गहराई तक पहुंचते हैं. जो स्पर्म स्ट्रौंग नहीं होते वे वैजाइना से बाहर भी निकल जाते हैं, मगर इस से गर्भधारण प्रक्रिया में कोई फर्क नहीं पड़ता. यह एक आम प्रक्रिया है और इस से घबराने की भी जरूरत नहीं है.

अगर पति का स्पर्म काउंट सही है, आप का पीरियड्स रैग्युलर है तो संभव है कि आप के कंसीव न कर पाने के पीछे कोई और मैडिकल वजह हो. यह वजह आप में या फिर आप के पति दोनों में से किसी में भी हो सकती है.

ये भी पढ़ें- मैं शादी के बाद सेक्स को ले कर डरी हुई हूं, क्या महिलाओं में सेक्स संबंधी समस्याएं होती हैं?

अच्छा यही होगा कि आप किसी स्त्रीरोग विशेषज्ञा से सलाह लें और फर्टिलिटी के बारे में बात करें. तभी आप जल्दी कंसीव कर पाएंगी.

मां बनने में न हो देरी इसलिए कराएं समय पर इलाज –

शादी के बाद मां बनने की ख्वाहिश हर महिला की होती है. लेकिन कैरियर के चक्कर में एक तो देरी से शादी करने का फैसला और उस के बाद भी मां बनने का फैसला लेने में देरी करना उन की प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है, जिस से उन्हें कंसीव करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. ऐसे में जरूरी है समय पर सही फैसला लेने की व कंसीव करने में सफलता नहीं मिलने पर डाक्टरी परामर्श ले कर इलाज करवाने की.

जानते हैं इस संबंध में गाइनोकोलौजिस्ट ऐंड ओब्स्टेट्रिशिन (नर्चर आईवीएफ सैंटर) की डा. अर्चना धवन बजाज से:

कब आती है समस्या

पीसीओडी, ऐंडोमिट्रिओसिस, अंडे कम बनना या बनने पर उन की क्वालिटी का सही नहीं होना, फैलोपियन ट्यूब में ब्लौकेज, हारमोंस का इंबैलेंस, पुरुष में शुक्राणुओं की कमी की वजह से दंपती संतान सुख से वंचित रह जाते हैं.

आज संतान सुख से वंचित दंपतियों की संख्या दिनप्रतिदिन बढ़ती जा रही है, जो तनाव का भी कारण बनती जा रही है. ऐसे में जरूरी है कि अगर आप दोनों साथ रहते हैं और 1 साल से भी ज्यादा समय से बच्चे के लिए ट्राई कर रहे हैं और आप को सफलता नहीं मिल रही है तो आप तुरंत डाक्टर से संपर्क करें ताकि समय पर इलाज शुरू हो सके. सक्सैस नहीं मिलने पर आईयूआई, आईवीएफ व आईसीएसआई का विकल्प आइए, जानते हैं विस्तार से आईयूआई, आईवीएफ व आईसीएसआई प्रक्रिया के बारे में:

आईयूआई

आईयूआई को इंट्रायूटरिन इंसेमिनिशेन कहते हैं. इस प्रक्रिया में पहले सोनोग्राफी के द्वारा महिला के एग के रिलीज होने के समय का पता लगाया जाता है. इस दौरान अंडे की क्वालिटी को अच्छा बनाने व रिलीज करने के लिए दवाइयां भी दी जाती हैं. जब अंडा रप्चर होने के करीब होता है तब पुरुष के अच्छे शुक्राणुओं को अलग कर लिया जाता है फिर उसे गर्भाशय में पहुंचाया जाता है ताकि अंडा आसानी से शुक्राणु से मिल सके और कंसीव करने में आसानी हो.

ये भी पढ़ें- सेक्स करने के अगले दिन मेरे यूट्रस में दर्द होने लगा और मुझे बुखार भी हो गया, मैं क्या करूं?

इस प्रक्रिया में महिला के पीरियड को ध्यान में रखा जाता है. इस में पीरियड के 10वें दिन से सोनोग्राफी करवाई जाती है, जो 14वें, 15वें दिन तक रोजाना या एक दिन छोड़ कर होती है. इस में नियमित रूप से सैक्स भी करने को कहा जाता है, क्योंकि अंडा 1 दिन तक जीवित रहता है जबकि स्पर्म 2 दिन तक.

आईयूआई के कम से कम 5-6 सर्किल ट्राई किए जाते हैं. फिर भी सफलता नहीं मिलने पर आईवीएफ का सु झाव दिया जाता है. इस के लिए पहले लैप्रोस्कोपी द्वारा स्थिति का पता लगाया जाता है.

आईवीएफ

आईवीएफ को इनविट्रो फर्टिलाइजेशन कहा जाता है, जिस में महिला के शरीर से विकसित हुए अंडे को बाहर निकाल कर पुरुष के अच्छे शुक्राणुओं से मिलाया जाता है. फिर इन्हें कल्चर डिश में डाल दिया जाता है. इस प्रक्रिया से बने भ्रूण को प्रयोगशाला में रखा जाता है और फिर 2 दिन बाद महिला के यूटरस में डाल दिया जाता है. इस से कंसीव करने में आसानी होती है.

आईसीएसआई

इसे इंट्रासाइटोप्लास्मिक मोफोलौजिकल सिलैक्टेड स्पर्म इंजैक्शन तकनीक कहा जाता है. इस तकनीक का सहारा तब लिया जाता है जब पुरुष शुक्राणुओं की संख्या काफी कम होती है. इस में टैस्ट द्वारा उच्च गुणवत्ता यानी अच्छे शुक्राणुओं को अलग कर के फिर प्रोसैस में लाया जाता है.

आईवीएफ से सक्सैस रेट

इस में सक्सैस इस बात पर निर्भर करती है कि दंपती की उम्र क्या है और उन की शादी को कितने साल हुए हैं. जैसे अगर उम्र 30 साल से कम है तो 50-55% सक्सैस के चांसेज होते हैं, वहीं 35-40 वर्ष की उम्र में सक्सैस रेट 30-35% रह जाता है. 40 में या उस के बाद सिर्फ 20-25%. कई बार पहली बार आईवीएफ करवाने पर सक्सैस नहीं मिलती है. लेकिन दूसरी, तीसरी, चौथी बार इस के सक्सैस के चांसेज काफी बढ़ जाते हैं.

ये भी पढ़ें- मेरे और मेरे प्रेमी के बीच कई बार सेक्स हो चुका है और मुझे इस में बेहद आनंद आता है, मैं क्या करूं?

फायदा

ट्यूब बंद होने, स्पर्म काउंट कम होने या फिर अंडे की क्वालिटी सही नहीं होने पर  भी आईवीएफ से आसानी से कंसीव कर के संतान सुख प्राप्त किया जा सकता है.

खास केयर की जरूरत

वैसे तो हर महिला यही चाहती है कि उसे नैचुरल तरीके से गर्भधारण हो, लेकिन जब इस में सफलता नहीं मिलती तो अन्य विकल्पों का सहारा लेना ही पड़ता है. अन्य विकल्पों को अपनाने के साथ ही प्रैगनैंसी में कौंप्लिकेशन न आए, इस के लिए ज्यादा सावधानियां बरतने की जरूरत होती है जैसे कई बार प्रैगनैंसी के दौरान डायबिटीज, हाइपरटैंशन, ओवेरियन हाइपर स्टिम्युलेशन हो जाता है. इसलिए जरूरत है कि इस दौरान डाक्टर की हर सलाह पर अमल करने की और किसी भी तरह की परेशानी होने पर तुरंत डाक्टर को दिखाने की ताकि स्थिति बिगड़े नहीं.

हारमोंस को बैलेंस में रखना जरूरी

हारमोंस के असंतुलित होने से हमारी शारीरिक ही नहीं, बल्कि मानसिक व इमोशनल हैल्थ पर भी प्रभाव पड़ता है. इस के लिए काफी हद तक हमारा मौडर्न लाइफस्टाइल जिम्मेदार होता है, जिसे अगर आप चाहें तो बड़ी आसानी से बैलेंस कर सकते हैं. जैसे-

– रोजाना पर्याप्त मात्रा में अपनी डाइट में प्रोटीन लें.

– बिजी शैड्यूल के बावजूद ऐक्सरसाइज के शैड्यूल को न छोड़ें.

– मोटापे को कंट्रोल करने व खुद को फिट रखने के लिए कार्बोहाइड्रेट व चीनी का इनटेक कम करें.

– खुश रहें ताकि तनाव से दूर रहें.

– ओवरईटिंग की आदत से बचें.

– पूरी नींद लेने के साथसाथ हाइफाइबर डाइट लें.

इस बात का ध्यान रखें कि अपने इलाज को ले कर स्ट्रैस में न रहें, क्योंकि स्ट्रैस में रहने से हारमोंस का संतुलन बिगड़ता है, जिस से आप को कंसीव करने में दिक्कत होगी.

ये भी पढ़ें- मेरे पति नियमित सेक्स करना चाहते हैं जबकि घर और बच्चे की देखभाल से मैं बेहद थक जाती हूं, मैं क्या करूं?

डा. अर्चना धवन बजाज

कंसलटैंट ओब्स्टेट्रिशन, गाइनोकोलौजिस्ट इनफर्टिलिटी ऐंड आईवीएफ ऐक्सपर्ट, द नर्चर क्लीनिक

Tags:
COMMENT