नेहा की यह बात आज शैली के जीवन की हकीकत थी. वह वाकई समझ गई थी.