सिंधु ने बैडमिंडन वर्ल्ड चैंपियनशिप में जापान की नोजोमी ओकुहारा को 21-7, 21-7 से हरा दिया. बैडमिंटन कोर्ट में सिंधु को ये इतिहास रचने में तीन बार प्रयास करना पड़ा लेकिन तीसरी बार इतिहास भी रचा.

हम आपको बताते हैं कि विश्व विजेता पीवी सिंधु का यहां तक का सफर कैसा रहा. सिंधु कोर्ट के बाहर कैसी हैं.  2017, 2018 और फिर 2019 सिंधु लगातार तीन बार विश्व चैंपियनशिप के सेमीफाइनल पर पहुंची थी लेकिन बदकिस्मती उनका पीछा नहीं छोड़ रही थी और वो लगातार फाइनल हार रहीं थी लेकिन 2019 में उनके सामने वही खिलाड़ी थी जिसने 2017 में उनका सपना तोड़ा था. पीवी सिंधु ने जापान की नोजोमी ओकुहारा को 21-7 से हरा हिसाब चुकता किया.

Digital Plans
Print + Digital Plans

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • मनोहर कहानियां की दिलचस्प क्राइम स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री की चटपटी गॉसिप्स
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
Tags:
COMMENT