कहानी

दिल की धड़कनें बेकाबू हो रही थीं. बेचैनी बढ़ती जा रही थी. लेकिन अभी था कि उस के होंठों से शब्द बाहर नहीं आ रहे थे और मैं इंतजार में थी कि वह कुछ तो बोले...

'सरस सलिल' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now